011-40705070  or  
Call me
Download our Mobile App
Select Board & Class
  • Select Board
  • Select Class
 

essay on corruption in india in hindi

Asked by Angel Anjali(student) , on 16/2/11


Become Expert
Score more in Hindi
Start Now with Video Lessons, Sample Papers, Revision Notes & more for Class-VIII - CBSE 

EXPERT ANSWER

 

Hi!
आज के आधुनिक युग में व्यक्ति का जीवन अपने स्वार्थ तक सीमित होकर रह गया है। प्रत्येक कार्य के पीछे स्वार्थ प्रमुख हो गया है। समाज में अनैतिकता, अराजकता और स्वार्थ से युक्त भावनाओं का बोलबाला हो गया है। परिणामस्वरुप भारतीय संस्कृति और उसका पवित्र तथा नैतिक स्वरुप धुँधा हो गया है। इसका एक कारण समाज में फैल रहा भ्रष्टाचार भी है। भ्रष्टाचार के इस विकराल रुप को धारण करने का सबसे बड़ा कारण है, आज के अर्थप्रधान युग में प्रत्येक व्यक्ति धन प्राप्त करने में लगा हुआ है। कमरतोड़ महंगाई भी इसमें इजाफ़ा करने का काम कर रही है। मनुष्य की आवश्यकताएँ बढ़ जाने के कारण वह उन्हें पूरा करने के लिए मनचाहे तरीकों को अपना रहा है।
भारत के अंदर तो भ्रष्टाचार का फैलाव दिन-भर-दिन बढ़ रहा है। किसी भी क्षेत्र में चले जाएं भ्रष्टाचार का फैलाव दिखाई देता है। भारत के सरकारी व गैर-सरकारी विभाग इस बात का सबसे बड़ा प्रमाण हैं। आप यहाँ से अपना कोई भी काम करवाना चाहते हैं, बिना रिश्वत खिलाए काम करवाना संभव नहीं है। मंत्री से लेकर संतरी तक को अपनी फाइल बढ़वाने के लिए पैसे का उपहार चढाना ही पड़ेगा। स्कूल व कॉलेज भी इस भ्रष्टाचार से अछूते नहीं है। बस इनके तरीके दूसरे हैं। गरीब परिवारों के बच्चों के लिए तो शिक्षा सरकारी स्कूलों व छोटे कॉलेजों तक सीमित होकर रह गई है। नामी स्कूलों में दाखिला कराना हो, तो डोनेशन के नाम पर मोटी रकम मांगी जाती है। बैंक जोकि हर देश की अर्थव्यवस्था का आधार स्तंभ हैं, वे भी भ्रष्टाचार के इस रोग से पीड़ित हैं। आप किसी प्रकार के लोन के लिए आवेदन करें पर बिना किसी परेशानी के फाइल निकल जाए, यह तो संभव नहीं हो सकता। देश की आंतरिक सुरक्षा का भार हमारे पुलिस विभाग पर होता है। परन्तु आए दिन यह समाचार आते-रहते हैं कि आमुक पुलिस अफ़सर ने रिश्वत लेकर एक गुनाहगार को छोड़ दिया। भारत को इस तरह का भ्रष्टाचार खोखला बना रहा है।
हमारे समाज में फन फैला रहे, इस विकराल नाग को मारना होगा। सबसे पहले आवश्यक है प्रत्येक व्यक्ति के मनोबल को ऊँचा उठाया जाए। प्रत्येक व्यक्ति को अपने कर्तव्यों का निर्वाह करते हुए अपने को इस भ्रष्टाचार से बाहर निकालना होगा। यही नहीं शिक्षा में कुछ ऐसा अनिवार्य अंश जोड़ना होगा, जिससे हमारी नई पीढ़ी प्राचीन संस्कृति तथा नैतिक प्रतिमानों को संस्कार स्वरुप लेकर विकसित हो। न्यायिक व्यवस्था को कठोर करना होगा तथा सामान्य जन को आवश्यक सुविधाएँ भी सुलभ करानी होगी। इसी आधार पर आगे बढ़ना होगा, तभी इस स्थिति में कुछ सुधार की अपेक्षा की जा सकती है।
 
आशा करती हूँ कि आपको प्रश्न का उत्तर मिल गया होगा।
 
ढ़ेरों शुभकामनाएँ!

Posted by Savitri Bisht(MeritNation Expert)on 17/2/11

This conversation is already closed by Expert

More Answers

VERY GOOD SPEECH I GOT MY aNSWER THaNK YOU

Posted by AinnA...(student)on 26/5/11

its realy a good essay. it fulfills needs of students.

Posted by Taijas Arya(student)on 30/6/11

 hey thanks i got my essay easily on this

i want a essay on hindi on an autobiography of a fort

Posted by harshsawant143....(student)on 1/7/11

I want an essay on janlok pal se bhrastachaar ka khatama...

 

Thanx in Advance...!!!

Posted by Hitesh Patel(student)on 11/7/11

Its very good and intresting eassy it helped me a lot ..................

thanks a lot !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

Posted by MINAL...(student)on 19/7/11

muje ek comptition ke liye correption par eassy likhna he me kis prakar likhu plz help

Posted by vikashshrm460.....(student)on 23/7/11

badges

Respected Teacher

I was looking for an essay on the topic " Corruption " but  i did not find any essay as per on my expectation. This is really an excellent work. plz accept my  heartiest good wishes.

Posted by Lavanaya Pandit(student)on 23/7/11

badges

 thanks for this wonderful essay. it helped me for doing hindi hw

Posted by Sanchari Chakr...(student)on 25/7/11

badges

i seriously loved what u wrote!thanxxx!i need a help from u can u write fo me paragraph on barthi mahgai!around 80_100 words plzzz! i hope  u will do it for me! plzzzzzzzzzzzzz!increase in expenses

Posted by mushfiqhussain0...(student)on 30/7/11