011-40705070  or  
Call me
Download our Mobile App
Select Board & Class
  • Select Board
  • Select Class
Krish Sang from CHETTINAD VIDYASHRAM, asked a question
Subject: Hindi , asked on 16/6/11

essay on mobile phone:laabh aur haani

EXPERT ANSWER

Savitri Bisht , Meritnation Expert added an answer, on 17/6/11
21214 helpful votes in Hindi

नमस्कार मित्र!
मोबाइल: उसके लाभ और हानि
आज का 'वैज्ञानिक युग', नए-नए आविष्कारों व तकनीकों का जन्मदाता है। इस वैज्ञानिक युग ने मनुष्य के जीवन को एक परिष्कृत जीवन शैली दी है। मानव सभ्यता में आरम्भ से आज तक बहुत ही बदलाव हुए हैं पर आज की स्थिति आदिम काल के समय से सर्वथा भिन्न व सुविधापूर्ण है। आदिम कालीन मनुष्य को अनेकों कठिनाईयों का सामना करना पड़ा। उसके लिए उस समय का जीवन इतना सरल व सुविधापूर्ण नहीं था। उसे कदम-कदम पर नित नई परिस्थितियों का सामना करना पड़ता था परन्तु इन कठिनाईयों ने उसे अपने जीवन को सरल व सुविधापूर्ण बनाने के लिए प्रेरित किया। धीरे-धीरे अपनी नई खोजों व आविष्कारों के रूप में बदलाव लाने में सफलता प्राप्त करने लगे। इन सब पड़ावों से गुजरते हुए उसने स्वंय के लिए जीवन और भी सरल व सुविधापूर्ण बनाने में सफलता अर्जित कर ली। उसके नई खोजों की सबसे बड़ी खोज है 'मोबाइल फोन'।
मोबाइल फोन ने मीलों की दूरियों को समाप्त कर दिया है। विज्ञान के कारण आज यह मात्र बात करने का उपकरण नहीं है अपितु उसके अंदर और तकनीकी बदलाव कर इसे इतना आधुनिक बना दिया गया है कि हम इसके माध्यम से विभिन्न अवसरों की फोटो व विडियो रिकाडिंग कर सकते हैं। जहाँ चाहे वहाँ रेडियो का मज़ा इस उपकरण के माध्यम से ले सकते हैं। मोबाइल के ज़रिये हम ई-मेल कर सकते हैं व अपने कार्यालय को इसके माध्यम से सुचारू रूप से चला सकते हैं। यदि कोई विपत्ति आन पड़े तो मोबाइल के माध्यम से तत्काल सहायता के लिए किसी को बुला सकते हैं। ये हर कदम पर हमारे लिए बहुपयोगी बन गया है।
अत्यधिक सुविधा भी कभी असुविधा का कारण बन सकती है। जहाँ इसके लाभ है, वहीं इससे होने वाली हानियाँ भी हैं। इसके अत्यधिक प्रयोग से कान सम्बन्धी रोग होते हैं, मस्तिष्क पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। मोबाइल से उत्पन्न कंपन के कारण मनुष्य का एकांत समाप्त हो गया है। फोन सदैव साथ होने के कारण हर स्थान पर बज उठता है। कई बार तो कार चलाते हुए मोबाइल पर बात करने से दुर्घटना होने का डर बना रहता है। अपराध जगत में भी इसका अनुचित प्रयोग होने लगा है। बच्चों द्वारा इसके अंधाधुंध प्रयोग ने उनकी भाषा पर विपरीत असर डाला है। मोबाइल पर अत्यधिक बात करने के कारण वह अपना समय बर्बाद करते हैं जिससे उनकी शिक्षा पर भी इसका दुष्परिणाम देखने को मिलता है।
मोबाइल फोन विज्ञान की सुन्दर देन है। यह हमारी सुविधा के लिए ही बनाया गया है। परन्तु इसका अनुचित प्रयोग सम्पत्ति की भांति हमारे लिए नुकसान का भी कारण बन सकती है। इसलिए हमें चाहिए कि हम इसका प्रयोग अपनी आवश्यकताओं के आधार पर करें न कि दिखावे के लिए।
 
आशा करती हूँ कि आपको प्रश्न का उत्तर मिल गया होगा।
 
ढेरों शुभकामनाएँ!

This conversation is already closed by Expert

  • Was this answer helpful?
  • 197
View More
Shobhit Varshney From Kendriya Vidyalaya, added an answer, on 16/6/11
60 helpful votes in Hindi

 aaj vigyan ne bahut unti kr li hai  is me se kuch aavishkar hmare liye labhkari hai or kuch HANIKARK. MOBILE BHI VIGYAN KA EK AAVISHKAR HAI IS KE LABH BHI HAI OR HANIYA BHI .YE SAB HM PAR NIRBHAR KRTA HAI HM USKA KAISE UPYOG KISE  KRTE HAI. MOBILE KA SBSE BDA LABH YE HAI KE ISNE DOOR BAITHE LOGO KO JOD DIA HAI VO BHI BINA TAAR KE . BAHAR PADNE JANE WALE BACHO KI LIYR YE BHUT HI LABHKARI HAI. PAR JIS PARKAR HAR SIKKE KE DO PEHLU HOTE HAI USI PARKAR MOBILE KE BHI DO PEHLU HAI. EK LABHKARI OR EK NUKSANDAYAK. MOBILE KE KARN AAJ BHUT BACHE PADAI SE DOOR BHAGTE HAI KYUKI UNHE YA TO MBL PAR GAME KHELNA HOTA HAI YA US APNE DOSTO SE BAATE KRNI HOTI HAI . MBL PAR BACHE BHUT HI PAISE KHARCH KRTE HAI. MBL SE HI VO BHUT GLT KAMO KO ANJAM DETE HAI JAISE LADKIYO KO CHEDNA , CHORI KRNE KI AADAT KYONKI VO ACHE SE ACHA MBL CHAHTE PAR ISKE LIEYE UNKE PAAS PAISE NHI HAI

TO IS MOBILE KE LABHKARI OR NUKSANDAYAK DONO PARBHAV HAI. YEH HM PAR NIRBHAR KRTA HAI HM USSE KIS PARKAR KA KAM LENA CHAHTE HAI.

HOPE IT HELPS !!!!!!!!!!!!!. ENJOY UR LIFE

  • Was this answer helpful?
  • 49
Krish Sang From Chettinad Vidyashram, added an answer, on 19/6/11
37 helpful votes in Hindi

tnx fr ur help

  • Was this answer helpful?
  • 22

Popular questions from निबंध संग्रह

Show More Questions
Start a Conversation
You don't have any friends yet, please add some friends to start chatting
Unable to connect to the internet. Reconnect
friends:
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends["first_name"]}} {{ item_friends["last_name"]}} {{ item_friends["subText"] }}
{{ item_friends["notification_counter"]}} 99+
Pending Requests:
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends["first_name"]}} {{ item_friends["last_name"]}} {{ item_friends["school_name"] }}
Suggested Friends:
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends["first_name"]}} {{ item_friends["last_name"]}} {{ item_friends["school_name"] }}
Friends
{{ item_friend["first_name"]}} {{ item_friend["last_name"]}} {{ item_friend["school_name"] }}
Classmate
{{ item_classmate["first_name"]}} {{ item_classmate["last_name"]}} {{ item_classmate["school_name"] }}
School
{{ item_school["first_name"]}} {{ item_school["last_name"]}} {{ item_school["school_name"] }}
Others
{{ item_others["first_name"]}} {{ item_others["last_name"]}} {{ item_others["school_name"] }}