011-40705070  or  
Call me
Download our Mobile App
Select Board & Class
  • Select Board
  • Select Class
Smruti Inamdar from Kendriya Vidyalaya, Beml Nagar K.g.f , asked a question
Subject: Hindi , asked on 21/2/11

 samay ka mahatva ke upar nibandh

EXPERT ANSWER

Savitri Bisht ,Meritnation Expert added an answer
Answered on 22/2/11

 

Hi!
समय का हमारे जीवन से एक महत्त्वपूर्ण रिश्ता है। जब मनुष्य का जन्म होता है, तब से समय सदैव उसके साथ बना रहता है। उसके अंत समय पर ही उसके साथ उसका समय समाप्त हो जाता है। यद्यपि मनुष्य जन्म लेते हैं और मर जाते हैं, परन्तु समय निंरतर अपनी धुरी पर चलता रहता है। वह शांत, निश्छल भाव से बिना किसी भेद-भाव के निरंतर चलता रहता है। समय का कार्य मात्र वर्षों व दिनों को दर्शाने तक सीमित नहीं है। वह यह भी दिखाता है कि हमने अपने जीवनकाल में उसका (समय) सदुपयोग किया है या दुरुपयोग।
इस संसार में अरबों की संख्या में मनुष्य रहते हैं पर उनमें से कुछ ही समय का सदुपयोग कर उन्नति प्राप्त करते हैं। सभी मनुष्यों के लिए यह संभव नहीं होता क्योंकि वे अपने समय का मूल्य न जानकर उसका सदुपयोग नहीं कर पाते और उसका अपव्यय करते हैं। वे अपने संपूर्ण जीवन में इसी दु:ख से पीड़ित रहते हैं कि उन्होंने समय पर कुछ नहीं किया। ''अब पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत''। यदि समय को सही तरह से व्यवस्थित किया जाए तो अपने जीवन को एक नई दिशा दी जा सकती है। ऐसे कई उदाहरण हम स्वयं के जीवन में देख सकते हैं, जब एक क्षण की देरी से हमें कई महत्त्वपूर्ण अवसरों से हाथ धोना पड़ा हो। रोमियों यदि कुछ क्षण धैर्य को धारण कर स्थिति को समझता तो शायद न उसे अपने प्राणों से हाथ धोना पड़ता और न ही जूलियट को। इस कहानी का तब शायद इतना दु:खद अंत नहीं होता। किसी कार्य को करने के लिए लापरवाही नहीं दिखानी चाहिए। ज़रा सी लापरवाही सारी मेहनत पर पानी फेर सकती है। इससे समय तो बर्बाद होगा ही साथ ही जो मेहनत बर्बाद होगी वो अलग।
हमें चाहिए कि हम समय का सदुपयोग करें। हर कार्य को निश्चित समय अवधि पर या पहले समाप्त करें ताकि बचें हुए समय में हम अपने अन्य कार्यों को पूरा कर सके। तालिका बनाकर विभिन्न कार्यों को करने के लिए समय निश्चित करें और उसी कार्य तालिका के अनुसार कार्य को कार्यान्वित करें।
यदि हम समय को सम्मान देंगे तो वह हमें बदले में उतना ही फल देगा। हमें चाहिए कि हम अपने खाली समय का ऐसा उपयोग करें जिससे वह बर्बाद न होकर हमारे लिए उपयोगी बन जाए। सर्वप्रथम हम ज्ञानवर्धक पुस्तकें पढ़ सकते हैं। सभाओं, विचार- गोष्ठियों में जा सकते हैं। चित्रकला, संगीत या अन्य कोई कला सीख सकते हैं, पूरक परीक्षा में भाग ले सकते हैं, बड़ों की मदद हेतु कार्य कर सकते हैं आदि। हमारा मुख्य उद्देश्य होना चाहिए समय की बर्बादी पर रोक। अपने जीवन में हमें समय का पाबंद बनना चाहिए। एक विद्यार्थी के जीवन में समय का बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान होता है। उसका एक-एक पल उसके द्वारा व्यवस्थित होना चाहिए। उसे अपने खाने-पीने, खेलने, पढ़ने, सोने आदि के लिए एक तालिका का निर्माण करना आवश्यक है। यदि वह अपने समय को व्यवस्थित न कर यूँ ही बर्बाद करता रहेगा तो कभी भी अपनी परीक्षा संबंधी तैयारी समय पर समाप्त नहीं कर पाएगा और फलस्वरुप उसे परीक्षा में असफलता हाथ लगेगी। इसी बात पर रहीम जी ने कहा है,
समय लाभ सम लाभ नहिं, समय चूक सम चूक।
चतुरन चित रहिमन लगी, समय चूक की हूक।।
अर्थात् वही लोग जीवन में उन्नति व विकास को प्राप्त करते हैं जो अपने समय का मूल्य पहचानते हैं। हमें समय की माँग के अनुसार अपने समस्त कार्यों को पूरा करना चाहिए। एक पल को भी व्यर्थ नहीं जाने देना चाहिए। विद्यार्थी काल से ही समय की उपयोगिता पर ध्यान देकर अपने कार्यों को किया जाए तो समय संपूर्ण जीवन में हमारे विपरीत न जाते हुए हमारे समकक्ष चलने लगता है। टाटा, बिड़ला, सचिन तेंदुलकर, रोहित बहल, संजीव कपूर, धनराज पिल्लै आदि अनेकों नाम हैं जिन्होंने समय के सही उपयोग से ही सफलता अर्जित की है। एक पेड़ निश्चित समय पर फूल व फल देता है और उसके फल के पक जाने पर उसे गिरा देता है। दूसरी तरफ मनुष्य अपने जीवन काल में बचपन, यौवन, वृद्धावस्था तक आ जाता है यह सब समय के होने व उसके व्यतीत होने का प्रमाण है कि समय कभी किसी के लिए नहीं ठहरता बल्कि अपनी गति से चलता रहता है। हमें इस बात को सदैव गाँठ बाँधकर कर रख लेना चाहिए कि गया हुआ समय कभी लौटकर नहीं आता। यदि इस बात को स्मरण कर समय का सदुपयोग किया जाए तो सदैव उन्नति व विकास हमारे कदम चूमेंगे। "समय की कद्र" यही हमारा गुरुमंत्र होना चाहिए। हमें अपने जीवन में समय के महत्व को समझते हुए, इसका उपयोग करना चाहिए।
 
मैं आशा करती हूँ कि आपके प्रश्न का उत्तर मिल गया होगा।
ढेरों शुभकामनाएँ !
 

 

This conversation is already closed by Expert

View More
Smruti Inamdar , From Kendriya Vidyalaya, Beml Nagar K.g.f , added an answer
Answered on 4/3/11

Thank you . It was very useful.

Vasu Goel , From St.francis School , added an answer
Answered on 25/5/11

it was very very helpful and thanks a lot.

abhi.sinha.jc... , added an answer
Answered on 31/5/11

thank 4 it .it is very useful

Katy , From Carmel Convent School , added an answer
Answered on 20/7/11

 thxxxxxxx

Carol Noronha , From Morning Star School , added an answer
Answered on 7/9/11

thnkew alot..................! jst required fr my 2mrw 's speech...! amazing

Issac Thomas , From Ffffff , added an answer
Answered on 28/9/11

 thanx for this answer

archit.nigam20... , added an answer
Answered on 16/10/11

.

Soumya Jain , From Vatsalya Public Hr Sec School , added an answer
Answered on 8/11/11

 it is very nice nd it will help me to complete my assignment ...thamxxxxxxxx

sumit.khairnar1998... , added an answer
Answered on 10/11/11

 dsfsdfdf

harsha.chhipa... , added an answer
Answered on 17/11/11

it is very useful and good

harsha.chhipa... , added an answer
Answered on 17/11/11

samaya ka karya niam pe kyo kerae

Pranita Lewis , From Kendriya Vidyalaya , added an answer
Answered on 19/11/11

this was a mind blowing essay

Meera Keshav Mohan , From Kv Adoor , added an answer
Answered on 1/1/12

it is very useful for my hindi exam... thxxxxxxxxxxxxx............