011-40705070  or  
Call me
Download our Mobile App
Select Board & Class
  • Select Board
  • Select Class
Sharandeep Kler from ARMY PUBLIC SCHOOL, asked a question
Subject: Hindi , asked on 27/12/11

 Stri Shiksha ke virodhi kutarkon ka khandan ka saransh batao?

Mehak Preet Kaur , added an answer, on 15/11/14
4 helpful votes in Hindi
Divedi ji kehna chahte hai ki pracheen kaal mein striyan vidushi rahin hai atev vartmaan mein shiksha se vanchit rakhna uchit baat nahin hai is paath se hume yeh shiksha milti hai ki humme striyon ko jitna ho sake aage badaana chahiye aur unhe studies se toh kabhi vanchit nahin rakhna chahiye
  • Was this answer helpful?
  • 2
View More 5 Answer
Ajay From New Digamber Public School, added an answer, on 19/3/16
1 helpful votes in Hindi
इस पाठ में लेखक ने स्त्री शिक्षा के महत्व को प्रसारित करते हुए उन विचारों का खंडन किया है। लेखक को इस बात का दुःख है आज भी ऐसे पढ़े-लिखे लोग समाज में हैं जो स्त्रियों का पढ़ना गृह-सुख के नाश का कारण समझते हैं। विद्वानों द्वारा दिए गए तर्क इस तरह के होते हैं, संस्कृत के नाटकों में पढ़ी-लिखी या कुलीन स्त्रियों को गँवारों की भाषा का प्रयोग करते दिखाया गया है। शकुंतला का उदहारण एक गँवार के रूप में दिया गया है जिसने दुष्यंत को कठोर शब्द कहे। जिस भाषा में शकुंतला ने श्लोक वो गँवारों की भाषा थी। इन सब बातों का खंडन करते हुए लेखक कहते हैं की क्या कोई सुशिक्षित नारी प्राकृत भाषा नही बोल सकती। बुद्ध से लेकर महावीर तक ने अपने उपदेश प्राकृत भाषा में ही दिए हैं तो क्या वो गँवार थे। लेखक कहते हैं की हिंदी, बांग्ला भाषाएँ आजकल की प्राकृत हैं। जिस तरह हम इस ज़माने में हिंदी, बांग्ला भाषाएँ पढ़कर शिक्षित हो सकते हैं उसी तरह उस ज़माने में यह अधिकार प्राकृत को हासिल था। फिर भी प्राकृत बोलना अनपढ़ होने का सबूत है यह बात नही मानी जा सकती।

जिस समय नाट्य-शास्त्रियों ने नाट्य सम्बन्धी नियम बनाए थे उस समय सर्वसाधारण की भाषा संस्कृत नही थी। इसलिए उन्होंने उनकी भाषा संस्कृत और अन्य लोगों और स्त्रियों की भाषा प्राकृत कर दिया। लेखक तर्क देते हुए कहते हैं कि शास्त्रों में बड़े-बड़े विद्वानों की चर्चा मिलती है किन्तु उनके सिखने सम्बन्धी पुस्तक या पांडुलिपि नही मिलतीं उसी प्रकार प्राचीन समय में नारी विद्यालय की जानकारी नही मिलती तो इसका अर्थ यह तो नही लगा सकते की सारी स्त्रियाँ गँवार थीं। लेखक प्राचीन काल की अनेकानेक शिक्षित स्त्रियाँ जैसे शीला, विज्जा के उदारहण देते हुए उनके शिक्षित होने की बात को प्रामणित करते हैं। वे कहते हैं की जब प्राचीन काल में स्त्रियों को नाच-गान, फूल चुनने, हार बनाने की आजादी थी तब यह मत कैसे दिया जा सकता है की उन्हें शिक्षा नही दी जाती थी। लेखक कहते हैं मान लीजिये प्राचीन समय में एक भी स्त्री शिक्षित नही थीं, सब अनपढ़ थीं उन्हें पढ़ाने की आवश्यकता ना समझी गयी होगी परन्तु वर्तमान समय को देखते हुए उन्हें अवश्य शिक्षित करना चाहिए।

लेखक पिछड़े विचारधारावाले विद्वानों से कहते हैं की अब उन्हें अपने पुरानी मान्यताओं में बदलाव लाना चाहिए। जो लोग स्त्रियों को शिक्षित करने के लिए पुराणों के हवाले माँगते हैं उन्हें श्रीमद्भागवत, दशमस्कंध के उत्तरार्ध का तिरेपनवां अध्याय पढ़ना चाहिए जिसमे रुक्मिणी हरण की कथा है। उसमे रुक्मिणी ने एक लम्बा -चौड़ा पत्र लिखकर श्रीकृष्ण को भेजा था जो प्राकृत में नहीं था। वे सीता, शकुंतला आदि के प्रसंगो का उदहारण देते हैं जो उन्होंने अपने पतियों से कहे थे। लेखक कहते हैं अनर्थ कभी नही पढ़ना चाहिए। शिक्षा बहुत व्यापक शब्द है, पढ़ना उसी के अंतर्गत आता है। आज की माँग है की हम इन पिछड़े मानसिकता की बातों से निकलकर सबको शिक्षित करने का प्रयास करें। प्राचीन मान्यताओं को आधार बनाकर स्त्रियों को शिक्षा से वंचित करना अनर्थ है।
  • Was this answer helpful?
  • 1
Ankit , added an answer, on 21/7/12
1 helpful votes in Hindi

 stri shiksha ke virodhi kutrkon ka khandan ka shabad arth

  • Was this answer helpful?
  • 1
Lakshay Mahajan From Hans Raj Samarak School, added an answer, on 11/3/15
1 helpful votes in Hindi
Book ladle shitiz kiHamara time waste mat KarStupid fellowDangarUseless
  • Was this answer helpful?
  • 1
Ketul Patel , added an answer, on 9/12/12

 summary of stri shiksha ke virodhi kutarko ka khandan of mahavir prasad dwivedi

  • Was this answer helpful?
  • 0
dilipdeshmukh.2011... , added an answer, on 31/12/11

nbnhjhjjnjnjn

  • Was this answer helpful?
  • 0

Add an Answer

Start a Conversation
You don't have any friends yet, please add some friends to start chatting
Unable to connect to the internet. Reconnect
friends:
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends["first_name"]}} {{ item_friends["last_name"]}} {{ item_friends["subText"] }}
{{ item_friends["notification_counter"]}} 99+
Pending Requests:
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends["first_name"]}} {{ item_friends["last_name"]}} {{ item_friends["school_name"] }}
Suggested Friends:
{{ item_friends['first_name']}} {{ item_friends['last_name']}}
{{ item_friends["first_name"]}} {{ item_friends["last_name"]}} {{ item_friends["school_name"] }}
Friends
{{ item_friend["first_name"]}} {{ item_friend["last_name"]}} {{ item_friend["school_name"] }}
Classmate
{{ item_classmate["first_name"]}} {{ item_classmate["last_name"]}} {{ item_classmate["school_name"] }}
School
{{ item_school["first_name"]}} {{ item_school["last_name"]}} {{ item_school["school_name"] }}
Others
{{ item_others["first_name"]}} {{ item_others["last_name"]}} {{ item_others["school_name"] }}