Purchase mobileappIcon Download our Mobile App
Call Us at 011-40705070  or  
Click to Call
Select your Board & Class
  • Select Board
  • Select Class

vartman shiksha aur bhavishya essay .........

Asked by Manju(student) , on 2/1/14

EXPERT ANSWER
मित्र हम इस विषय पर आरंभ करके दे रहे हैं। इसे स्वयं पूरा कीजिए-
शिक्षा का कार्य है मनुष्य में मानवता, प्रेम, प्यार और सद्भावना को उत्पन्न करना। परन्तु यदि यही रतन जीवन को विष के समान बना दे, तो ऐसी विद्या का न होना ही व्यर्थ है। दूसरे यदि हम यह कहें क्या शिक्षा ही विद्या है?, तो यह बात सही नहीं है। विद्या वह कहलाती है जिसके माध्यम से मनुष्य कुछ सीखता है और उसमें सिद्धहस्त होकर कार्य करता है। विद्या बहुत तरह की हो सकती है। मात्र शिक्षा को विद्या कहलाना उचित नहीं होगा। विद्याएँ बहुत तरह की होती है जिनमें शिक्षा की आवश्यकता नहीं होती है; जैसे गहने बनाना, बर्तन बनाना, फनीचर बनाना, वैद्य, व्यापार का कार्य इत्यादि। इसे हम अपने अनुभवों और बड़ों की देख-रेख में सीखते हैं।वर्तमान समय में शिक्षा ज्ञान अर्जित करने के लिए नहीं बल्कि जीविका के अच्छे साधन तलाशने का निमित मात्र बनकर रह गई है परन्तु यह जरूरी नहीं कि वह अकेली ऐसी विद्या है, जिससे जीविका मिल सके। .........

Posted by Savitri Bisht(MeritNation Expert)on 4/1/14

This conversation is already closed by Expert

More Answers

 essay on vartman shiksha aur bhavishya shiksha

Posted by Harshit Goel(student)on 12/6/13

 I also need this essya. So quickly someone answer this.

Posted by Harsh Kumar(student)on 15/6/13

Ask a QuestionHave a doubt? Ask our expert and get quick answers.
Show me more questions

close