aaj ki upbhoktavadi sanskriti humare dainik jeevan ko kis prakar prabhavit kar rahi h ?

नमस्कार मित्र!
 
आज की उपभोक्तावादी संस्कृति हमारे जीवन पर हावी हो रही है। मनुष्य आधुनिक बनने की होड़ में बौद्धिक दासता स्वीकार कर रहे हैं, पश्चिम की संस्कृति का अनुकरण किया जा रहा है। आज उत्पाद को उपभोग की दृष्टि से नहीं बल्कि महज दिखावे के लिए खरीदा जा रहा है। विज्ञापनों के प्रभाव से हम दिग्भ्रमित हो रहे हैं।
 
ढेरों शुभकामनाएँ!

  • -1
What are you looking for?