agar laxman main vinamrata ka bhaav hota to wah kis tarah se parshuram se samvaad karte?

मित्र!
आपके प्रश्न का उत्तर इस प्रकार है।-

यदि लक्ष्मण में विनम्रता का भाव होता, तो यह बात इतनी आगे नहीं बढ़ती। लक्ष्मण जी परशुराम के सामने हाथ जोड़कर खड़े रहते और विनम्रता भरे शब्दों से उन्हें शांत करने का प्रयास करते। उन्हें ऐसे वचन नहीं कहते, जिससे उन्हें क्रोध आता। उन पर हँसने के स्थान पर चुप रहना पसंद करते।

  • 0
What are you looking for?