an 150 word essay on dussehra (hindi)

दशहरे का त्योहार हिन्दू धर्म में विशेष महत्व रखता है। यह त्योहार अधर्म पर धर्म की विजय, असत्य पर सत्य की विजय और अंहकार के विनाश का प्रतीक है। इसी कारण इसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है। अश्विन मास के शुक्लपक्ष की दशमी के दिन इस त्योहार को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। अयोध्या के राजा राम ने इसी दिन लंकापति राक्षस राज रावण का वध किया था। हिन्दू राजा इस दिन को शुभ मानते हुए युद्ध के लिए इसी दिन कूच करते थे। यह तिथि युद्ध में जीत के लिए उत्तम मानी जाती है। उत्तर भारत में तो दशहरे का उत्साह देखते ही बनता है। दस दिन पहले ही रामलीला का मंचन आरंभ हो जाता है। इन दिनों रामकथा को नाटक रूप में दिखाया जाता है। दसवें दिन रावण, मेघनाद और कूंभकरण के पूतले का दहन किया जाता है। इस अवसर पर विभिन्न स्थानों पर बड़े-बड़े मेलों का आयोजन भी किया जाता है। विद्यालयों में बच्चों के लिए दस दिन का अवकाश भी घोषित कर दिया जाता है। बच्चे बड़े उत्साह के साथ रावण दहन देखने जाते हैं और मेलों में बहुत आनंद उठाते हैं। भारत के सभी स्थानों में इसे अलग-अलग रूप में मनाया जाता है। कहीं यह दुर्गा विजय का प्रतीक स्वरूप मनाया जाता है, तो कहीं नवरात्रों के रूप में। बंगाल में दुर्गा पूजा का विशेष आयोजन किया जाता है। यह त्योहार हर्ष और उल्लास का प्रतीक है। इस दिन मनुष्य को अपने अंदर व्याप्त पाप, लोभ, मद, क्रोध, आलस्य, चोरी, अंहकार, काम, हिंसा, मोह आदि भावनाओं को समाप्त करने की प्रेरणा मिलती है। यह दिन हमें प्रेरणा देता है कि हमें अंहकार नहीं करना चाहिए क्योंकि अंहकार के मद में डूबा हुआ एक दिन अवश्य मुँह की खाता है। रावण बहुत बड़ा विद्वान और वीर व्यक्ति था परन्तु उसका अंहकार ही उसके विनाश कारण बना। यह त्योहार जीवन को हर्ष और उल्लास से भर देता है, साथ यह जीवन में कभी अंहकार न करने की प्रेरणा भी देता है।

  • 76
What are you looking for?