an essay on hamari rashtra bhasha hindi??

हिन्दी हमारी राष्ट्रभाषा है तथा देश में इसके विकास और उत्थान के लिए युवावर्ग की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। एक देश की भावी पीढ़ी ही युवावर्ग कहलाती है। भविष्य में उनके हाथों में देश की बागडोर होगी। इसलिए उनकी भूमिका को नकारा नहीं जा सकता है। हिन्दी अपने देश में ही दम तोड़ती नज़र आ रही है। परन्तु यदि युवावर्ग चाहे, तो स्थिति बदल सकती है। वैसे हाल ही में देखा जाए, तो युवावर्ग में हिन्दी के प्रति रुझान देखा गया है। मोबाइल ने युवावर्ग के जीवन में विशिष्ट स्थान बना लिया है। इसमें एस.एम.एस. के माध्यम से बातचीत करना सरल और सस्ता होता है, अतः युवावर्ग में यह खासा प्रचलित है। युवावर्ग ने अंग्रेज़ी भाषा के स्थान पर हिन्दी को अधिक महत्व दिया है। हिन्दी में लिखी बात जहाँ मज़ेदार होती है, वहीं भावों को व्यक्त करने में कारगर होती है। यही कारण है कि हिन्दी युवावर्ग की पहली पसंद है। आज हर कोई हिन्दी में संदेश भेजना पसंद करता है। अत: यदि युवा इस क्षेत्र में अपना पूर्ण रूप से योगदान करे, तो हिन्दी अपने खोए स्थान को पुनः प्राप्त कर सकती है। एक देश के लिए उसकी राष्ट्रभाषा का जो महत्व है, वह युवाओं को समझ आ रहा है। वह स्वयं भी इसके प्रचार-प्रसार में लगे हुए हैं । 

  • 120
What are you looking for?