Bacche kaam par jaa rahe hain-
Ise vivaran ki tarah likha jaana khatarnaak kyun hai, aur ise sawal ki tarah kyun likha jaana chahiye?

मित्र बच्चों की स्थिति के ज़िम्मेदार केवल समाज के लोग हैं। लोगों को जागरुक करने तथा इस समस्या के समाधान के लिए, प्रयास करने पर विवश करने के लिए समाज के समक्ष इन प्रश्नों को पूछना उचित एवं न्यायोचित है। अत:  इस कारण इसे सवाल की तरह पूछना चाहिए कि आखिर बच्चे काम पर क्यों जा रहे हैं ? इसके पीछे की क्या स्थिति है तथा उनकी कौन सी मजबूरी है? यह भयानक इसलिए हैं क्योंकि हमारे समाज में कुछ बच्चों का बचपन खो गया है। जिस उम्र में उनकी हाथ में कलम होना चाहिए उस उम्र में वे लोग आजीविका के साधन पकड़े खड़े हैं। किसी समाज या देश के लिए यह सबसे भयानक बात है।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                          
 

  • 3
What are you looking for?