Can you give me the mool bhav of poem ag path

the mool bhaav of the p[oem agneepath is that 'kavi nsan se keh rahe han ki he aadmi tumhekoi tumhe chahe kitna hi madad ke liye haath de-de tumhe use chhodkar parishram ke path par aage badhna hai. tumne aek baar jo faisla kar liya use poora kar ke hi chhodna hai, kaayaron ki tarah peeche mudkar nahi dekhnaa hai, aur hamesha parishram kar jeewan mein aage badhte rehena hai.' this is the mool bhaav of the poem my freind . hope my answer helps.

  • 3

iss kavita ka mool bhav yah hai ki manushya ko nirantar sangharsh karte hue jivan jeena chahiye.kavi jivan ko agni bhara raasta maante hai.Iss raaste par chalte samay pad - oad par chunautiya aur kasth hai. Manushya ko chahiye ki whA chunautiyon se na gabhraaye aur naahi unse muh mode.Manushya ko aasu peekar, paseena bahakar, tatha khun se lath-path hokar bhi nirantar sangharsh karte rehna chahiye.

hope this helps u...!!!

  • 5

इस कविता का मूलभाव है कि जीवन संघर्षों से भरा रहता है। इसमें कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। हर पल,हर पग पर चुनौतियाँ मिलती हैं परन्तु इन्हें स्वीकार करना चाहिए,इनसे घबरा कर पीछे नहीं हटना चाहिए,ना ही मुड़ कर देखना या किसी का सहारा लेना चाहिए। संकटों का सामना स्वयं ही करना चाहिए। बिना थके,बिना रूके,बिना हार माने इस जीवन पथ पर निरंतर आगे बढ़ते रहना चाहिए।

  • 2

इस कविता का मूलभाव है कि जीवन संघर्षों से भरा रहता है। इसमें कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। हर पल,हर पग पर चुनौतियाँ मिलती हैं परन्तु इन्हें स्वीकार करना चाहिए,इनसे घबरा कर पीछे नहीं हटना चाहिए,ना ही मुड़ कर देखना या किसी का सहारा लेना चाहिए। संकटों का सामना स्वयं ही करना चाहिए। बिना थके,बिना रूके,बिना हार माने इस जीवन पथ पर निरंतर आगे बढ़ते रहना चाहिए।

  • 1

This is very simple........its just that people should do their work with dedication and love and never back off from a difficult situation.Instead they should face the situation bravely.

Thanks

  • 1
What are you looking for?