give me a hindi summary of class 7 ncert hindi lesson kathputli

please give me the answer today

कठपुतली का मूलभाव है कि हमें अपनी स्वतंत्रता के लिए सचेत रहना चाहिए। कठपुतली दूसरों की अंगुलियों पर नाचती है। इससे उसका अपना कुछ नहीं रहता। उसके हाव-भाव यहाँ तक की उसके चलने फिरने तक को अंगुलियाँ तय करती है। ऐसे में कठपुतली दूसरे पर निर्भर है। लेखक यही स्थिति एक गुलाम व्यक्ति की दर्शाना चाहता है। उसके अनुसार गुलामी की जंजीर को तोड़ना आवश्यक है। हमें जहाँ लगे कि दूसरा हमारी आज़ादी का हनन कर रहा है वहाँ तुरंत आवाज़ उठाए। इससे और लोग भी सचेत हो जाएंगे और हम आज़ाद रह पाएंगे।

  • 24
What are you looking for?