Hamare jeevan ki raftaar badh gayi hai. Yaha koi chalta nahi bulky daudta hai. Koi bolta nahi, bakta hai. Ham jab akele padte hai tub apne aapse lagataar badhbadhate rahte hai.
Ashya spasht kijiye

मित्र

जीवन की रफ़्तार से लेखक का आशय अत्यधिक सफलता पाने के लिए प्रतिस्पर्धा भरे जीवन से है। जहाँ मनुष्य आगे निकलने के चक्कर में चलता नहीं, बल्कि दौड़ता है। कोई बोलता नहीं, बकता है।

  • 0
What are you looking for?