hindi meaning of first paragraph
रस्सी कच्चे धागे की, खींच रही मैं नाव।
जाने कब सुन मेरी पुकार, करें देव भवसागर पार।
पानी टपके कच्चे सकोरे, व्यर्थ प्रयास हो रहे मेरे।
जी में उठती रह–रह हूक, घर जाने की चाह है घेरे।।​
 

मित्र!
हमारी वेबसाइट में देखिए हमने प्रत्येक कविता भाग की प्रसंग सहित व्याख्या वेबसाइट में उपलब्ध करवाई हुई है। आप वहाँ से सहायता प्राप्त कर सकते हैं।

  • 2
What are you looking for?