शब्द और पद में अंतर

नमस्कार मित्र!

आपके प्रश्न से यह समझ नहीं आ रहा है की आप पद के विषय में प्रश्न कर रहे हैं या पद्य के विषय में। मैं आपको दोनों के विषय में समझाने का प्रयास करती हूँ। व्याकरण में शब्द को 'पद' भी कहते हैं। इन पदों को जोड़कर जब हम कोई काव्य लिखते हैं तो वह पद्य कहलाते हैं। बहुत सारे शब्दों के प्रयोग करके एक काव्य की रचना पद्य का रूप धारण कर लेती है। पद से पद्य का जन्म होता है। अब आप समझ गए होगें कि दोनों ही एक सिक्के के दो पहलू हैं तो अंतर कैसे हो सकता है।
 
ढेरों शुभकामनाएँ!

  • 0
What are you looking for?