लेखिका के व्यक्तित्व पर किन - किन व्यक्तियों का किस रूप में प्रभाव पड़ा ?

लेखिका के व्यक्तित्व पर दो व्यक्तियों का विशेष प्रभाव पड़ा - लेखिका के पिताजी और उनकी हिंदी का प्राध्यापिका - शीला अग्रवाल।

लेखिका के पिताजी के कभी अच्छे कभी बुरे व्यवहार ने लेखिका के जीवन को बहुत हद तक प्रभावित किया। पहले उनके पिता उनको बहुत हीन समझते थे। इसका परिणाम यह हुआ कि लेखिका के मन में आत्मविश्वास की कमी हो गई। इसी कारण वह भी अपनी उपलब्धि पर भरोसा नहीं कर पाती थी।

दसवीं कक्षा के बाद फर्स्ट इयर में उनकी मुलाकात हिंदी की प्राध्यापिका शीला अग्रवाल से हुई। उनसे लेखिका को हिंदी साहित्य के बारे में ज्ञान प्राप्त हुआ तथा बचपन के खोए आत्मविश्वास की भावना फिर से उनके मन में जागृत हुई, उनका चित्त स्वतंत्रता संग्राम की ओर उन्मुख हुआ।

  • 0
What are you looking for?