"मैं चलता हूँ। अब आपकी बारी है।"यहाँ पटेल के कथन का आशय उद्धृत पाठ के संदर्भ में स्पष्ट कीजिए।

यह कथन वल्लभभाई पटेल ने गिरफ़्तारी के समय कहे थे। दाड़ी यात्रा की तैयारी की जा रही थी। उन्हें अकारण ही सरकार ने गिरफ़्तार कर लिया थे। अतः उन्होंने इन वचनों के माध्यम से लोगों को कहा था कि आज सरकार मुझे इस कार्य के लिए बंधी बना रही है। वह सोचती होगी कि मेरी गिरफ़्तारी से यह यात्रा स्थगित हो जाएगी। परन्तु मैं जानता हूँ कि मेरे जाने से यह यात्रा नहीं टलेगी। मुझे हटाया जाएगा, तो और वल्लभभाई खड़े हो जाएँगे। वे देश के लिए सरकार के क्रोध से डरने वाले नहीं है। वे भी जेल जाने को तैयार हैं। अतः मैं वहाँ ऐसे लोगों का इंतजार करूँगा, जो देश के लिए कुछ भी कर सकने के लिए तैयार हैं। अतः मैं चलता हूँ। अब आपकी बारी है।

  • 0
What are you looking for?