it is a Hindi general question

प्रिय मित्र!
आपके प्रश्न का उत्तर इस प्रकार है।

अनुशासनहीन और निराशावान समाज  कभी भी उन्नति नहीं कर सकता। अनुशासित व्यक्ति आज्ञाकारी होता है और वह उचित कार्य करके देश की उन्नति में अपना योगदान देता है। अनुशासन पूरे जीवन में बहुत महत्व रखता है और जीवन के हर कार्यों में इसकी जरुरत होती है। अनुशासनहीन व्यक्ति कभी भी सही और उचित कार्य नहीं कर सकता क्योंकि किसी भी कार्य को करने के लिए समर्पण और अनुशासन बेहद जरूरी है। निराशावान व्यक्ति समाज का भला तो क्या अपना भी भला नहीं कर सकता। वह हमेशा निराशा में डूबा रहता है। उसके हाथों कभी भी उचित काम नहीं हो सकता। देश की उन्नति के लिए दो महत्वपूर्ण तत्व अनुशासन और उत्साह होने बहुत आवश्यक हैं। 
 

  • 1
What are you looking for?