jaal pare jal jaat bahi, taji meenan ko moh

raheeman macchri neer ko, tyo na chaarti chhoha

MEANING OF THIS DOHA

इसका तात्पर्य है कि तालाब/नदी/सागर में जाल फेंकने पर जल तो मछली को छोड़कर बाहर निकल जाता है परन्तु मछली जल का मोह ना छोड़ते हुए, उसके प्रेम में अपने प्राण को त्याग देती है।

  • 51

rahim je kahte hai ki jab jaal ko pani me dala jata hai tab machli ka man pani se alag hone ke lie katrata hai lekin jab aise sthite athi hai tab machli apne pran tyag deti hai

  • 5
What are you looking for?