kahin bhali hai katuk nibori,kanak katori ki madaa se - aashry sparshth karein


नमस्कार मित्र!
कवि का आशय है कि गुलामी के जीवन में यदि अच्छे से अच्छा पकवान सोने के बर्तन में भी परोसा जाए, वह आज़ादी की कड़वी निबौरी के आगे बेकार है। अर्थात आज़ादी में खाना बेस्वाद क्यों न हो, वह भी गुलामी के जीवन से लाख गुणा स्वादिष्ट लगता है क्योंकि तब हम स्वयं के मालिक होते हैं। हमें किसी की गुलामी नहीं करनी पड़ती।
 
हमारे मित्रों द्वारा सही उत्तर दिया गया है। उनकी सहायता के लिए धन्यवाद।

  • 5

 JO NEEM KI KADWI NIBAURI HOTI HAI , WOH US CHIDIYA KO SONE KI KATORI MEIN RAKHE MAIDE SE ACHCHI LAGTI HAI.

 

 

IF U FEEL THE ANSWER IS CORRECT THEN THUMPZZ UP PLZ .........

  • 6

Que: 'kahin bhali hai katuk nibori, kanak katori ki madaa se'-aashry sparshth karein

Ans: chidya ke leye katuk nibori zaayada aachi hai kanak se bani katori me rakha madaa se. kyunki wo aazad reha chati hai.

  • 2

Thanxxx....

  • 3

Thank u!!!!!

  • -2

jese hame badhan me rah kar battiso bhojan fe feke lagte he aur aazadi melne par rokhi sukhi  roti bhe pasand aati he ausi ta rah

panshi ko bandhan me rah kar sone ke katori me meda pasand nahe ata.

  • 0

 welcome

  • -1
What are you looking for?