Kavi Bal majduri ko Vishwa vyapi samasya kyu manta hai

मित्र!
आपके प्रश्न का उत्तर इस प्रकार है।-
बच्चे जीवन का आधार होते हैं। इनसे ही जीवन हरा-भरा होता है। यदि बच्चे खेलने और पढ़ने के स्थान पर काम करने लगे, तो इस विश्व का क्या होगा। इनका जीवन काम करने के लिए नहीं बना है। उनकी उम्र नहीं है, काम करने की। उनकी उम्र सीखने की, समझने की, कूदने की और मज़ा करने की होती है। यही कारण है कि कवि ने इसे समस्या कहा है।

  • -1
from which chapter you are asking this question
  • 0
From which chapter
  • 0
What are you looking for?