Kavi kokil se kya puchta hai?
 

प्रिय मित्र!
कवि कोकिल सेेेेेेेेे पूछता है कि तुम रात में ही क्यों गाती हो ? तुम फिर रह-रह अर्थात् कुछ क्षणों के बाद चुप क्यों हो जाती हो ? हे कोयल बोलो। तुम क्रान्तिकारी देशभक्तों को किसका सन्देश लाती हो ? स्वाधीनता संग्राम के कैदियों को तुम क्या सन्देश देती हो ? हे कोयल, तुम स्पष्टतया बोलो।
सादर।

  • 1
Vaha puchta hai ki vaha kya sandhesha leke aayi hai aur kuch bol kyu nahi rahi
  • 0
What are you looking for?