Kriya visheshan or sambandhbodhak aavyay ka antar udharan ke sath batiye

जो अविकारी शब्द संज्ञा , सर्वनाम के बाद आकर वाक्य के दूसरे शब्द के साथ सम्बन्ध बताए उसे संबंधबोधक कहते हैं | ​ जैसे –​ निकट, दूर, आगे, पीछे, अंदर, बाहर, ओर, तरफ, पार, द्वारा, लिए, सिवाय, अलावा, संग, विरुद्ध, खिलाफ़, बिना, भर इत्यादि |​
जो अविकारी शब्द किसी क्रिया के संपादित होने के स्थान का बोध कराते हैं, उन्हे स्थानवाचक क्रियाविशेषण कहते हैं। जैसे- यहाँ, वहाँ, कहाँ, जहाँ, सामने, नीचे, ऊपर, आगे, भीतर, बाहर आदि।
 
  • 1
जो अविकारी शब्द संज्ञा , सर्वनाम के बाद आकर वाक्य के दूसरे शब्द के साथ सम्बन्ध बताए उसे संबंधबोधक कहते हैं | ​ जैसे –​ निकट, दूर, आगे, पीछे, अंदर, बाहर, ओर, तरफ, पार, द्वारा, लिए, सिवाय, अलावा, संग, विरुद्ध, खिलाफ़, बिना, भर इत्यादि |​
जो अविकारी शब्द किसी क्रिया के संपादित होने के स्थान का बोध कराते हैं, उन्हे स्थानवाचक क्रियाविशेषण कहते हैं। जैसे- यहाँ, वहाँ, कहाँ, जहाँ, सामने, नीचे, ऊपर, आगे, भीतर, बाहर आदि। 
आशा है इससे आपकी मदद होगी
 
  • 1
This is the answer

  • 0
What are you looking for?