lekhika ke vyaktitva ka sahi vikas kab hua? ek kahani yeh bhi paath ke adhaar par likhiye.

मित्र हम आपको उत्तर लिखकर दे रहे हैं।
​लेखिका के व्यक्तित्व का सही विकास हिंदी की प्राध्यापिका शीला अग्रवाल से मिलकर हुआ। उन्होंने लेखिका के साहित्य का दायरा बढ़ाया। वे लेखिका के साथ साहित्यिक चर्चाएँ करतीं तथा उसके ज्ञान को बढ़ातीं। ​वे चाहती थीं कि लेखिका घर की चारदीवारी से निकलकर आज़ादी के लिए सक्रिय भागीदारी निभाए। उन्होंने लेखिका में स्वावलंबन की भावना का विकास किया।

  • 5
What are you looking for?