muhveremaha prasthankar jana

मित्र इसका अर्थ है- मृत्यु को प्राप्त हो जाना या शरीर त्यागने की इच्छा से हिमालय पर्वत की ओर जाना।

  • 0
What are you looking for?