paragraph on Ma ka mahatva

मेरी माँ दुनिया की सबसे प्यारी व अच्छी माँ है। बचपन से आज तक मैं सदैव माँ के साथ रही हूँ। माँ के द्वारा हमेशा मेरी जरूरतों का ध्यान रखा गया। जब मैं छोटी थी तो माँ ही मुझे नहलाती व तैयार करती थी। वह मेरे साथ खेलती थी व मुझे पढ़ाती। मेरे मुँह से निकला पहला शब्द माँ ही था। मेरे द्वारा सीखा गया पहला पाठ माँ ने ही सिखाया था। मेरे गिर जाने पर मुझसे ज्यादा वह रोती थी। वह मुझे मेरी गलती पर डांटती भी थी परन्तु थोड़ी देर बाद मुझे प्यार भी करती थी। वह सदैव मेरे साथ मेरी छाया के समान रहती थी और आज भी हैं। पिताजी भी मेरा बड़ा ध्यान रखते हैं परन्तु माँ की बात ही अलग है। मैं खुद को अपनी  माँ के अधिक करीब पाती हूँ। ऐसा कभी नहीं हुआ कि मुझे माँ की जरूरत हो और उन्होंने मेरा साथ न दिया हो।
उन दिनों की बात है, जब मेरे स्कूल में गरमी की छुट्टियाँ पड़ी हुई थी। मैं सारा-सारा दिन धूप में खेलती रहती। माँ मना किया करती थी कि बाहर बहुत गरमी है। इतनी गरमी में नहीं खेलना चाहिए। लेकिन मैंने माँ की एक बात नहीं मानी। एक दिन माँ के सो जाने पर मैं घर से बाहर निकल गई व अपनी सहेलियों के साथ दिनभर खेलती रही। उस दिन अधिक गरमी हो रही थी। अचानक में बेहोश हो गई। मेरी सहेलियों ने माँ को बुलाया। मेरे कारण माँ बहुत परेशान रही। डॉक्टर ने बताया कि गरमी में खेलने के कारण ऐसा हुआ है। माँ मेरी दिन-रात सेवा करती रही। वह मेरे लिए नाना प्रकार के खिलौने लाईं। वह मेरे साथ खेलती ताकि मैं बाहर न जाऊँ। इस घटना ने मुझे इस बात का एहसास कराया कि माँ मुझे कितना स्नेह करती है और एक बच्चे के जीवन में माँ का क्या महत्व होता है।
मैं और मेरी माँ हम दोनों का रिश्ता सखियों जैसा है। वह कभी मेरे साथ माँ जैसा व्यवहार नहीं करती। वो मेरी सबसे अच्छी दोस्त है। उनके साथ जो खुशी मुझे मिलती है, वह अन्य किसी के साथ नहीं मिलती। माँ के बिना मैं अपनी कल्पना भी नहीं कर सकती। माँ भी मेरे बिना एक पल नहीं रह पाती। मेरे कारण वह बाहर ज्यादा आती-जाती भी नहीं है। मेरे परीक्षा के दिनों में तो वह मेरे साथ ही पूरी-पूरी रात जागती रहती हैं कि मुझे किसी चीज की जरूरत न पड़ जाए। मेरी माँ और मैं एक-दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। मैं उनकी सबसे प्यारी बेटी हूँ आैर वो मेरी सबसे प्यारी माँ।

  • 32
What are you looking for?