माता की आँचल पाठ को पढकर माता की स्नहमयता का जो रूप उभरता है उसे पठित पाठ की किन्ही दो घटनाओं के द्वारा स्पष्ट करते हुए परिवार में माता के स्थान और महत्व पर संक्षिप्त प्रकाश डाले। please tell me quickly


मित्र हम आपको माता के महत्व पर लिखकर दे रहे हैं। कृपया आप पाठ को पढ़कर दो घटनाओं को स्वयं लिखने का प्रयास कीजिए। इससे आपका लेखन कौशल बढ़ेगा।

​​माँ का आँचल दुनिया की ऐसी जगह है जहाँ प्रत्येक व्यक्ति अपने आप को सुरक्षित महसूस करता है। क्योंकि माँ अपने बच्चे का हर प्रकार से ध्यान रखती है तथा उन्हें दुनिया की प्रत्येक मुसीबत से बचाने का प्रयास भी करती है। इस पाठ के शिशु भोलानाथ को ही ले लिजिए वह चाहे अपने पिता से कितना भी प्यार करता हो परंतु मुसीबत से समय वह माँ के पास ही आता है। उसकी माँ  इस बात से परेशान हो जाती है कि उसे  चोट लगी। वह तुरंत उसका उपचार करती है। जब उसके पिता उसे माँ के गोद से  लेने का प्रयास करते हैं, तो वह उनके पास नही जाता। अत: हम इस आधार पर कह सकते हैं, माँ के साथ बच्चे ज़्यादा  सुरक्षित अनुभव करते हैं।

  • 1
What are you looking for?