sangatkar kavita ke aadar par sangatkar ki bhumika sapst kijeye

मित्र संगतकार की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है, यदि वह नहीं होता, तो मुख्यगायक को गायन के बीच में थोड़ा-सा विश्राम नहीं मिलता। इससे उसका गायन प्रभावित होता और वह लोगों के आगे शर्मिन्दा हो जाता। गायन के समय संगतकार ही मुख्यगायक को कई प्रकार की विषम परिस्थितियों से निकाल लेता है।
 

  • -7
What are you looking for?