sthaanaantaran se pareshaan apane mitr ko patr likhate samajhaie ki parivartan ek svaabhaavik prakriya hai.

मित्र आपका उत्तर इस प्रकार है।


पता--------
दिनांक-----

प्रिय रमेश,
मेरा प्यार लेना!
तुम्हारी कुशलता और तुम्हारे अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूँ। नया शहर कैसा है? मित्र स्थानांतरण से  परेशानी तो  अवश्य होती है।  नए सिरे से सभी वस्तुओं को एकत्रित करना पड़ता है।  स्थानांतरण में यह सभी स्वाभाविक है। इन परेशानियों से सभी को गुजरना पड़ता है। इसके अलावा भी यदि कोई परेशानी होती है तो मुझे बताना क्योंकि मेरे चाचा जी उसी उसी शहर में रहतेे हैं।
अब पत्र समाप्त करता हूँ। अपना ध्यान रखना और अपने माता-पिता को मेरा प्रणाम कहना। 

तुम्हारा मित्र,
सुरेश 

  • 1
I cannot understand these long stretching words !!!!!!!!!
  • 0
What are you looking for?