Why is Premchand known as 'Janta ke lekhak'?

मित्र प्रेमचंद हिंदी साहित्य के ऐसे लेखक थे जिन्होंने साहित्य को चरम पर पहुँचा दिया। इन्होंने अनेक कहानियों तथा उपन्यासों की रचना की। इनकी रचनाओं में सामान्य जीवन से जुड़ी समस्याओं को ही प्रमुख स्थान दिया गया है। ग्रामीण संस्कृति तथा जनजीवन को तो इन्होंने अपनी कहानियों तथा उपन्यासों में जीवंत कर दिया है। इन्होंने तत्कालीन समाज की कुरीतियों पर करारा व्यंग्य किया है। इसलिए इन्हें 'जनता का लेखक' कहा गया है। 

  • 6
What are you looking for?