Select Board & Class

Login

पत्र लेखन - औपचारिक पत्र

कालेजों में रैंगिग के नाम पर होने वाले उत्पीड़न को दर्शाने हेतु संपादक को पत्र।


 

परीक्षा भवन,

परीक्षा केन्द्र।

दिनांक: ............

 

सेवा में,

संपादक महोदय,

दैनिक हिंदुस्तान,

कस्तूरबा गाँधी मार्ग,

नई दिल्ली।

विषय: रैंगिग के नाम पर कॉलेजों में होने वाले उत्पीड़न के लिए शिकायती-पत्र।

श्रीमान जी,

मेरा नाम रमेश है। मैं आपके समाचार-पत्र में रैंगिग के नाम पर कॉलेजों में बच्चों के साथ होने वाले उत्पीड़न की ओर सरकार का ध्यान आकर्षित करना चाहता हूँ। कृपया अपने पत्र में इसे उचित स्थान पर प्रकाशित करके अनुग्रहित करें।

कालेज विद्या का एक मंदिर है। जब बच्चा बारहवीं कक्षा पास करता है तो उसके मन में कॉलेज के लिए कई रंगीन सपने होते हैं। वह पूरे जोश के साथ कॉलेज जाने की तैयारियाँ करता है। परन्तु यहाँ आकर उसके साथ जो होता है, वह उसके लिए भयानक सपने से अधिक नहीं होता। दिल्ली का कोई भी कॉलेज क्यों न हो परन्तु उनमें होने वाली रैंगिग सही नहीं है। यदि यह रैंगिग आपसी मेल-जोल बढ़ाने के लिए हो, तो इसका रूप कुछ और ही होता है। लेकिन आज रैंगिग दूसरों को मज़ा-मस्ती के नाम पर प्रताड़ित करने का माध्यम बन गई है। कॉलेज में इस तरह की गतिविधि बच्चों के मन में विपरीत असर छोड़ती है। हमें चाहिए रैंगिग को समाप्त करने के लिए प्रयाप्त कदम उठाएँ। दिल्ली सरकार को इसके लिए कुछ कानून भी बनाने चाहिए और कॉलेजों में इनक सख्ती से पालन भी करवाना चाहिए।

अत: आपसे निवेदन है कि अपने समाचार पत्र में इसे छाप कर प्रशासन का ध्यान इस तरफ़ दिलाने का प्रयास करें।

धन्यवाद,

भवदीय,

रमेश

 

डी-413, सरोजनी नगर,

नई दिल्ली।

दिनांक : ............

 

सेवा में,

मुख्य सम्पादक,

हिन्दुस्तान टाइम्स,

बहादुरशाह जफ़र मार्ग,

नई दिल्ली।

विषय: इंटरनेट पर बढ़ रहे साइबर क्राइम पर चिंता दर्शाने हेतु पत्र।

महोदय,

मैं भारत का निवासी हूँ। मैं आपका ध्यान इंटरनेट पर लगातार बढ़ रहे साइबर क्राइम की ओर दिलवाना चाहता हूँ। आज इंटरनेट का युग है। इंटरनेट आज के युग की महत्वपूर्ण आवश्यकता बनकर सामने आया है। इसके कारण ही आज दुनिया छोटे से कंप्यूटर में सिमटकर रह गई है। युवाओं में भी इसको लेकर खासा जोश देखा जा सकता है।

इंटरनेट जहाँ एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है, वहीं आज यह सबसे बड़ी सरदर्दी भी बना हुआ है। इसके माध्यम से अपराध की एक नई किस्म उभर कर आई है, जिसे साइबर क्राइम के नाम से जाना जाता है।

इंटरनेट पर होने वाले अपराधों में किसी साइट को हाईक करना, किसी बैंक की साइट में प्रवेश कर उस लूट लेना, किसी देश की सुरक्षा-प्रणाली में घुसकर गड़बड़ी कर देना जैसे मामले प्रकाश में आ रहे हैं। इन्हें आसानी से पकड़ा भी नहीं जा सकता है।

इन अपराधों से देश की सुरक्षा प्रणाली के लिए खतरा बढ़ जाता है। इसके साथ लोगों के लिए अब इंटरनेट का प्रयोग भी सुरक्षित नहीं रहा है। इन अपराधों में जो मास्टर माइंड हैं, वे आज के युवावर्ग हैं। वे अपनी योग्यता का प्रयोग गलत दिशा में कर रहे हैं। यदि इसी तरह चलता रहा तो ये युवा पथ भ्रष्ट हो जाएंगे। सरकार को चाहिए कि इस दिशा में महत्वपूर्ण कानून जितनी जल्दी हो सकें बनाएं और इन अपराधों को बढ़ने...

To view the complete topic, please

What are you looking for?

Syllabus