Select Board & Class

Login

पदबंध

पदबंध

पदबंध

व्याकरण में एक से अधिक पदों के निबंधन (नियम में बंधे हुए) से बने व्याकरणिक इकाई को पदबंध कहते हैं। पदबंध के विषय में जानने से पहले शब्द और पद के विषय में जानना आवश्यक है। ये व्याकरण के महत्वपूर्ण भाग हैं और पदबंध से इनका बहुत गहरा संबंध भी है। 

शब्द- एक शब्द को जब तक वाक्य में प्रयोग नहीं किया जाता है, तब तक वह स्वतंत्र होता है। उसका यही स्वतंत्र स्वरुप शब्द कहलाता है।

जैसे- कमल

पद- जब हम इसी (कमल) शब्द को वाक्य में प्रयोग करके लिखते हैं, तब यह वाक्य का एक भाग बन जाता है और 'पद' कहलाता है। वाक्य में यह पद व्याकरणिक नियमों से बंधा होता है।

जैसे:- तालाब में कमल खिले हैं।

पदबंध- इसी तरह जब एक से अधिक पद मिल जाते हैं और व्याकरणिक इकाई का रुप धारण कर लेते हैं, तब वह बंधी इकाई 'पदबंध' कहलाती है। (अर्थात कुछ पद मिलकर एक ही इकाई को दर्शाते हैं।)

उदाहरण के लिए-

(i) तालाब में कमल खिले हैं।

(ii) तालाब में सुंदर कमल खिले हैं।

(iii) तालाब में बहुत सुंदर कमल खिले हैं।

(iv) तालाब में रंग-बिरंगें बहुत सुंदर कमल खिले हैं।

रेखांकित शब्दों को देखिए ये सभी शब्द पदबंध हैं। 'कमल' एक पद है। लेकिन 'सुंदर कमल', 'बहुत सुंदर कमल' और 'रंग-बिरंगे बहुत सुंदर कमल' पद समूह 'कमल' से जुड़कर एक व्याकरणिक इकाई बना रहा है। इससे स्पष्ट होता है कि ये सब पदबंध हैं। 

ध्यान रखने योग्य बातें-...

To view the complete topic, please

What are you looking for?

Syllabus