Select Board & Class

Login

वह चिड़िया जो

वह चिड़िया जो

काव्यांश 1
वह चिड़िया जो-    
चोंच मार कर
दूध-भरे जुंडी के दाने
रुचि से, रस से खा लेती है
वह छोटी संतोषी चिड़िया
नीले पंखों वाली मैं हूँ
मुझे अन्न से बहुत प्यार है।

प्रसंग 1
प्रस्तुत पंक्तियाँ हमारी पाठ्य-पुस्तिका वसंत भाग-1 में संकलित 'वह चिड़िया जो' कविता से ली गई हैं। इसके रचनाकार &…

To view the complete topic, please

What are you looking for?

Syllabus