Subject: Hindi, asked 4 hours, 36 minutes ago

प्रत्येक व्यक्ति को अपना कार्य स्वयं करना चाहिए किंतु कामचोर पाठ में पिताजी ने ऐसा क्यों कहा होगा कि अगर किसी ने भी काम किया तो उसे रात का खाना नहीं मिलेगा? स्पष्ट रूप से व्याख्या कीजिए।
ख) पेड़ से गिरती हुई पत्तियों को थामने वाले हाथ के माध्यम से कवियत्री क्या कहने का प्रयास कर रही हैं?
ग) कवयित्री ने किसी के प्रतीक्षा करने मात्र से ही कठिन समय ना होने की बात कही है, इस बात से आप कहाँ तक सहमत हैं? स्पष्ट व्याख्या कीजिए।
घ) जीवन में यदि कठिन परिस्थितियाँ ना आए तो जीवन जीने का मजा ही नहीं आता। क्या आप इस तथ्य से सहमत हैं ?
तर्कपूर्ण उत्तर दीजिए।
ङ) सुख और दुख में आप कैसा अनुभव करते हैं दोनों ही बिंदुओं पर अपने अनुभव स्पष्ट रूप से बताने के लिए किसी घटना का वर्णन कीजिए।

Subject: Hindi, asked 4 hours, 36 minutes ago

अब दिक्क्त यहाँ ये हो गई कि झाडू़ केवल एक ही थी और तनख्वाह लेनेवाले उम्मीदवार बहुत, इसलिए छीना-झपटी में क्षण-भर में ही झाडू़ के पुर्जे-पुर्जे उड़ गए। जितनी सींके जिसके हाथ पड़ीं, वह उनसे ही उलटे-सीधे हाथ मारने लगा।   जिसके हाथों में झाड़ू की जितनी तीलियाँ लगी, वह उलटे-सीधे हाथ उन तीलियों को इकठ्ठा करने लगा। ये सब नज़ारा देख कर लेखिका की अम्मा ने अपने सिर पर हाथ रख दिया। बच्चों को ना जाने कहाँ से ये बात याद आ गई कि असल में झाड़ू देने से पहले जरा-सा पानी छिड़क लेना चाहिए। बस, ये विचार मन में आते ही बच्चों ने तुरंत दरी पर पानी छिड़कना शुरू कर दिया। अब एक तो वैसे ही हर जगह धूल-ही-धूल फैली हुई थी और बच्चों के पानी डालने से सारी धूल कीचड़ के रूप में बदल गई।अब सभी बच्चों को आँगन से भी निकाला गया क्योंकि उन्होंने काम करने की जगह बहुत काम बढ़ा दिया था। आँगन से निकाले जाने के बाद बच्चों ने तय किया कि अब पेड़ों को पानी दिया जाए। बस, फिर क्या था सभी बच्चों ने सारे घर की बालटियाँ, लोटे, तसले, भगोने, पतीलियाँ लूट ली और जिनके हाथ इन में से कोई भी चीज नहीं लगी उन्होंने डोंगे-कटोरे और गिलास ही ले लिए और पेड़ों को पानी देने चल पड़े।

 क) झाड़ू के पुर्जे पुर्जे उड़ने से क्या तात्पर्य है? झाड़ू लगाने से पहले बच्चों के मन में कौन सी बात आई?
ख) क्या बच्चों को आंगन से निकाला जाना उचित था? कारण सहित बताइए।
ग) अम्मा ने सिर पर हाथ क्यों रख लिया?

Subject: Hindi, asked 1 day, 7 hours ago

Subject: Hindi, asked 1 day, 7 hours ago

Subject: Hindi, asked 2 days, 10 hours ago

Subject: Hindi, asked 1 week, 1 day ago

Subject: Hindi, asked 1 week, 1 day ago

What are you looking for?