chandani raat par ek lekh likhiye

मित्र इस विषय पर हम आपको कुछ पंक्तियाँ लिखकर दे रहे हैं। आप स्वयं इसे विस्तारपूर्वक लिखने का प्रयास करें-

पूर्णमासी की रात में चाँद अपने पूर्ण आकर में होता है और उसकी चमक अन्य दिनों की तुलना में अधिक होती है। पूर्णमासी की चाँदनी रात की छटा अपने में अलग होती है। शहरों में इस रात का इतना महत्व नहीं होता क्योंकि चारों ओर इमारतों के जंगल उसकी छटा को दबा देते हैं। पिछले साल में अपनी मौसी के गाँव गई हुई थी। वहाँ पर मुझे पूर्णमासी के सौंदर्य देखने को मिला। मेरी मौसी चूंकि पूर्णमासी का वर्त रखती हैं। अतः वह चंद्रमा की पूजा करने छत पर गई थीं। हम भी उनके साथ गए। खुले और शांत वातावरण में चाँदनी रात का दृश्य बड़ा मनोहारी था। मैं उसे देखती ही रह गई। काली रात में चाँदनी बिखरी हुई थी। ऐसे लग रही था मानो चारों और स्वर्णिम जल बिखर गया हो। हर चीज़ सोने में घुली हुई प्रतीत होती थी। पास में ही एक तालाब था। वह भी सुनहरा लग रहा था।........................

  • 5

chandni raat me chand nikalta h.

  • -7
What are you looking for?